साइबर क्राइम क्या है? What is Cyber Crime?

साइबर क्राइम क्या है

What is Cyber crime In Hindi. साइबर क्राइम क्या है? क्या आपको पता है? हम सभी जानते है की हमारे रोज मर्रा की जिंदगी में अगर कोई अपराध करता है तो उसके लिए कानून व्यवस्था है. ठीक उसी प्रकार अगर कोई इन्टरनेट पर या फिर इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की मदद से कोई ऑनलाइन फ्रॉड, गुन्हा करते है तो वो भी एक अपराध है. जिसके चलते सजा हो सकती है.

इसलिए साइबर क्राइम क्या है? ए समझना बहुत जरुरी है.

साइबर क्राइम क्या है

साइबर क्राइम क्या है?

आज इन्टरनेट का उपयोग हर कोई करता दिखाई दे रहा है. छोटे बच्चो से लेकर बढे-बूढ़े इन्टरनेट इस्तमाल करते दिखाई दे रहे है.

Internet के माध्यम से अगर कोई वक्ती ऑनलाइन फ्रॉड, किसी की इनफार्मेशन चोरी करना(हैक) करना, इसको ही Cyber Crime कहा जाता है.”

What is Cyber Crime in Hindi

या फिर जितने भी इलेक्ट्रॉनिक माध्यम है, जैसे मोबाइल, कंप्यूटर, लैपटॉप इनका प्रयोग कर के कोई अपराध करता है तो उसको Cyber Crime कहा जाता है.

इस तरह के क्राइम से बचने के लिए साइबर लॉ याने (IT ACT 2000) बनाया गया है. जिसके चलते अलग अलग साइबर क्राइम के लिए अलग अलग सजा मुहया करायी है.

तो चलिए कोण कोण से साइबर क्राइम है वो जानते है.

1.Hacking:

जिस प्रकार हमारी आम जिदंगी में कोई चोर किसी की चीज़ चोरी करता है उसी प्रकार इन्टरनेट पर अगर कोई वक्ती कोई चीज़ चुराता है तो उसको हैकिंग कहा जाता है.

हैकिंग याने किसी की परमिशन के बिना ही उसका डाटा चुराना, उसकी वेबसाइट हैक करना, उसकी पर्सनल इनफार्मेशन चुराना यह सब आता है.

2.Copyright infringement

अगर किसी वक्ती के पास उसके अपने वर्क का राईट है उसको कॉपीराइट कहा जाता है. अगर कोई वक्ती किसी दुसरे वक्ती का ओरिजिनल वर्क चुराता है, उसके परमिशन के बिना इस्तमाल करता है, मॉडिफाई, reproduce करता है तो वो भी साइबर क्राइम है.

जैसे कई यूजर किसी दुसरे यूजर के ब्लॉग पोस्ट चुराता है वो एसे में अगर ओरिजिनल ओनर कॉपीराइट क्लेम करता है तो जिसने ब्लॉग पोस्ट चुरायी है उसको सजा और जुर्माना भरना पड़ सकता है.

3.Data Theft

डाटा थेफ़्ट याने डाटा की चोरी करना. इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से जो इलेक्ट्रॉनिक डाटा है उसको चुराना भी एक क्राइम है.

बड़ी बड़ी कम्पनी का डाटा बहुत इम्पोर्टेन्ट होता है. अगर उस डाटा का चोरी कर के गलत इस्तमाल किया जाए तो बड़ी मुश्किलें आ सकती है.

या फिर किसी के क्रेडिट/डेबिट कार्ड डिटेल्स चुराकर उसके पैसे चुराना.

4.Spreading Virus

कंप्यूटर वायरस को फैलाना और डाटा को नष्ट करना एक क्राइम है. किसी के पर्सनल कंप्यूटर में या फिर प्राइवेट, पब्लिक नेटवर्क में वायरस डालना भी एक क्राइम है.

5.Phishing

Phishing क्या है?

इसके नाम से पता चल जायेगा की इसका क्या मतलब है फिशिंग याने मछली पकड़ना, जैसे कोई वक्ती काटे में कुछ खाना लगाकर मच्छी पकड लेता है, उसी प्रकार इन्टरनेट पर फिशिंग एक टेक्नोलॉजी है.

फिशिंग में क्या होता है की कोई हैकर, प्रोग्रामर एक जैसा दिखने वाला पेज डिजाईन करता है. और उसके जरिए दुसरे वक्ती की डिटेल्स चोरी कर लेता है.

जैसे :

मान लीजिए आपका SBI इन्टरनेट बैंकिंग का अकाउंट है. तो हैकर क्या करता है, एक एसा ईमेल सेंड कर देता है जो यूजर को लगता है, की SBI की तरफ से ही आया है. वो यूजर उस पर क्लिक करता है, और उस पेज पर redirect किया जाता है, जो उस हैकर ने बनाया है.

हैकर उसी प्रकार का पेज बनाता है, जिस प्रकार SBI का लॉग इन पेज है. यूजर को लगता है यह sbi का ही लॉग इन पेज है. और वो अपना यूजर name और पासवर्ड डालकर लॉग इन करने की कोशिश करता है.

लेकिन लॉग इन नहीं हो पाता, वही हैकर के पास उसका यूजर name और पासवर्ड चला जाता है. और फिर हैकर उसी का प्रयोग कर के गलत काम करता है.

साइबर क्राइम टिप्स :

साइबर क्राइम से बचने के लिए हमे क्या क्या टिप्स अपनानी है वो हम आपको बता रहे है.

1.अपना पासवर्ड स्ट्रोंग बनाए, 2-3 महीने में अपना पासवर्ड बदलते रहे.

2.बैंकिंग transaction करते समय किसी भी unknown link, popup पर क्लिक ना करे.

3.अपने कंप्यूटर में antivirus सॉफ्टवेयर का इस्तमाल करे.

4.अपने पासवर्ड गोपनीय रखे, किसी को ना बताए.

तो दोस्तों ये थे साइबर क्राइम क्या है? इससे जुडी इनफार्मेशन. इस लेख के बारे में अपनी राय, सुजाव निचे कमेंट बॉक्स में बताए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
Earn Free Recharge & CashbackGet Now