Cryptography In Hindi-Types of Cryptography

What is cryptography in Hindi & Types of cryptography in Hindi? Cryptography क्या है इसके बारे में आज हम जानते है. हमारे लिए data सबसे इम्पोर्टेन्ट चीज़ होती है.

Cryptography In Hindi

Cryptography in Hindi:

क्रिप्टोग्राफि का मतलब डाटा को प्रोटेक्ट करना. याने जो हमारे इम्पोर्टेन्ट डाटा है, उसको protect करना.

किसी सन्देश को सुरक्षा के लिए encrypt किया जाता है, जिसको cryptography कहा जाता है.

Cryptography meaning in Hindi:

Cryptography एक Greek words जिसमे ‘Krypto’ का meaning hidden होता है और ‘graphene’ का meaning writing होता है.

क्रिप्टोग्राफिका जन्म प्राचीन लोगो के लेखन की कला से हुआ, पुराने लोग किसी सन्देश को कोड, के रूप में लिखा करते थे.

तो Cryptography की क्या जरुरत है, एसा आपके मन में सवाल उठेगा, तो चलिए इसके बारे में भी जानते है.

cryptography का इस्तमाल इसलिए किया जाता है, की डाटा को secretly सेंड किया जाए, याने बैंक, क्रेडिट कार्ड की जानकारी, मिलिट्री के सीक्रेट मेसेज, इस प्रकार के मेसेज को encrypt कर के सेंड किया जाता है.

 

Deleted Images Ko Recover Kaise Kare

Domain Name Kya Hai and Domain Kaha Se Kharide

 

दूसरी तरफ रिसीवर उस message को recive करने के बाद decrypt किया जाता है. इसमें मुख्य दो टर्म्स होती है.

Plain text:

ये हमारे सिंपल मेसेज होता है. जो हम सेंड करते है उसको प्लेन टेक्स्ट कहा जाता है.

Cipher text:

प्लेन टेक्स्ट को जब encrypt किया जाता है, उसको cipher टेक्स्ट कहा जाता है.

Encryption:

इसमें प्लेन टेक्स्ट (मेसेज) को Cipher text में कन्वर्ट किया जाता है, इसको Encryption कहा जाता है.

बाद में मेसेज सिक्योर हो जाता है, जिससे इसको कोई और पढ़ नही सकता, जब तक सामने वाले के पास उसको डिक्रिप्ट करने के key ना हो.

Decryption:

इसमें Cipher text को फिर से प्लेन टेक्स्ट में कन्वर्ट किया जाता है, जिसको decryption कहा जाता है.

Encryption & Decryption में key का इस्तमाल किया जाता है. जिसमे public key और private key इस प्रकार की दो key होती है.

Types of cryptography in Hindi

क्रिप्टोग्राफिके 2 टाइप्स है, सिमेट्रिक और असिमेट्रिक.

  1. Symmetric Key Encryption:

Symmetric Key Encryption में दोनों तरफ same key का इस्तमाल किया जाता है. याने डाटा को encrypt & decrypt करने के लिए same की का इस्तमाल होता है.

  1. Asymmetric Key Encryption

Asymmetric Key में दोनों तरह अलग अलग key का इस्तमाल किया जाता है. याने डाटा को encrypt & decrypt करने के लिए दो अलग कीस का इस्तमाल होता है.

इसमें Message को encrypt करने के लिए private key और decrypt करने के लिए public key का इस्तमाल होता है.

तो आज हम ने देखा की क्रिप्टोग्राफी क्या है ? Cryptography in Hindi & Types of cryptography in Hindi इससे जुडा आपका कोई सवाल हो तो आप हमे कमेंट में पूछ सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
फ्री रिचार्ज कमाए Get Now
Hello. Add your message here.